13.2 C
Dehradun
Friday, March 1, 2024

मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है पत्र के जरिए मंत्री अग्रवाल ने पीएम से प्रत्येक वर्ष 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महापर्व की वर्षगांठ मनाने का आग्रह किया

मंत्री अग्रवाल ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, प्रत्येक वर्ष 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर की वर्षगांठ मनाने का किया आग्रह

मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है पत्र के जरिए मंत्री अग्रवाल ने पीएम से प्रत्येक वर्ष 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महापर्व की वर्षगांठ मनाने का आग्रह किया

वित्त, शहरी विकास व आवास, विधायी एवं संसदीय कार्य, पुनर्गठन एवं जनगणना मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पत्र के जरिए मंत्री अग्रवाल ने पीएम से प्रत्येक वर्ष 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महापर्व की वर्षगांठ मनाने का आग्रह किया। उन्होंने संघ प्रमुख को भी पत्र के जरिए मंदिर निर्माण और श्रीरामलला की प्राण प्रतिष्ठा के साक्षी बनने पर बधाई दी।
पत्र के जरिए मंत्री डा. अग्रवाल ने कहा कि शताब्दियों के अभूतपूर्व धैर्य, अनगिनत बलिदान, त्याग, तपस्या की अनवरत प्रतीक्षा श्रीराम जी के आने से फलीभूत हुई। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार श्रीराम ने सम्पूर्ण भारतवर्ष को एक सूत्र में पिरोकर समरसता एवं सामन्जस्य का संदेश मानव मात्र के कल्याण के लिए दिया था, आज सम्पूर्ण देश में उसी समरसता के माहौल की अनुभूति हो रही है तथा ऊँच-नीच, जाति-पाति की खाईयां मिटती दिखायी दे रही हैं। उन्होेंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के भागीरथी प्रयास, संतो-महापुरूषों के आशीर्वाद के बल पर ही संभव हुआ है।
पत्र के जरिए मंत्री डा. अग्रवाल ने कहा कि श्रीराम मंदिर निमार्ण का जो आलौकिक दृश्य आज दृष्टिगोचर हो रहा है एवं सम्पूर्ण जनमानस जिस परमानन्द की अनुभूति करवा रहा है। जिन्हें शब्दों में वर्णन नही किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सनातन संस्कृति के स्वाभिमान के प्रतीक श्री अयोध्या धाम में निर्मित श्रीराम मंदिर, राष्ट्र मंदिर का स्थान प्राप्त करेगा, इसमें कहीं कोई संदेह नहीं है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles